अब आ गई कोरोना कि कोरोनिल

 

पतंजलि आयुर्वेद ने कोरोना की दवाई बनाने का दावा किया था जिसका नाम उन्होंने 'दिव्य कोरोनील टैबलेट' रखा है,  पतंजलि योगपीठ की ओर से बताया गया है कि कोरोना टैबलेट पर हुआ यह शोध पतंजलि रिसर्च इंस्टीट्यूट हरिद्वार और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस जयपुर के संयुक्त प्रयासों का परिणाम है। टैबलेट का निर्माण दिव्य फार्मेसी और पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड हरिद्वार में किया जा गया है जो अब वागड के सबसे बडे शियाराम पतंजलि मोल खडगदा तह सागवाडा जिला डूँगरपुर मे उपलब्ध हो रहा है । जानकारी देते हुए सियाराम पतंजलि मॉल खड़गदा के प्रबंधक दिपक भट्ट ने बताया कि पतंजलि में स्वदेशी भारत में निर्मित और आयुर्वेद पर आधारित हर तरह की दवाई दैनिक जीवन में उपयोग में आने वाली वस्तुएं उपलब्ध है उन्होंने बताया कि कोरोनल कोरोना से लड़ने के लिए आयुर्वेदिक बेहतर उपाय है जो अब हमारे वागड़ क्षेत्र के लोगों के लिए सियाराम पतंजलि मॉल में उपलब्ध है जानकारी देते हुए बताया कि इसके अलावा यहां पर पशुओं के लिए आहार भी उपलब्ध है साथ ही उन्होंने बताया कि जल्द ही सियाराम मॉल में उपभोक्ताओं को 5 लाख का एक बीमा भी दिया जाएगा जिसके अंतर्गत सियाराम मॉल से खरीद करने वालों को एक कस्टमर आईडी दी जाएगी और उसी आधार पर उनका यह बीमा लागू होगा खड़गदा से हमारे सहयोगी मुकेश जोशी की रिपोर्ट




Post a Comment

0 Comments