चेन स्नेचिंग गिरोह का पर्दाफाश, तीन बदमाशों समेत आभूूषण व्यापारी गिरफ्तार

 


तीन वारदातों का खुलासा, 1 लाख का माल बरामद 
डिजिटल डेस्क सतना। 
शहर में एक के बाद एक चेन स्नेचिंग की वारदातों को अंजाम दे रहे गिरोह का पर्दाफाश करते हुए सिटी कोतवाली पुलिस ने तीन बदमाशों को पकड़ लिया तो लूटे गए गहने खरीदने वाले आभूषण व्यापारी को भी गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे पहुंचा दिया। इस संबंध में जानकारी देते हुए पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह ने बताया कि 9 अक्टूबर को दोपहर करीब 2 बजे मारुती नगर निवासी प्रवेशा सिंह पति प्रेम लाल सिंह 55 वर्ष अपनी बेटी प्राची के साथ स्कूटी पर सवार होकर बाजार जा रही थीं। इस दौरान राजेन्द्र नगर गली नम्बर 3 में पहुंचते ही बाइक सवार दो बदमाश बगल से गुजरे, जिनमें से पीछे बैठे बदमाश ने महिला का मंगलसूत्र छींन लिया। इस घटना की सूचना फौरन ही पीडि़त ने कोतवाली टीआई अर्चना द्विवेदी को दी,तो उन्होंने अपनी टीम के साथ घटना स्थल का मुआयना कर आस-पास लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज खंगालकर बदमाशों को चिन्हित कर लिया और संभावित ठिकानों पर छापेमारी करते हुए संदेही देवेन्द्र कुमार दाहिया उर्फ धोनी पुत्र श्यामलाल 27 वर्ष निवासी बिछिया खुर्द थाना ताला हाल पतेरी को देशी शराब के अहाते से हिरासत में ले लिया। उससे पूछताछ की गई तो आरोपी ने पतेरी में एमपीईबी कालोनी के पास रहने वाले सतेन्द्र दाहिया उर्फ गोलू पुत्र भइया लाल दाहिया 23 वर्ष निवासी करसरा थाना सिंहपुर और राहुल पयासी पुत्र स्वर्गीय रामबिहारी पयासी 27 वर्ष निवासी न्यू कालोनी पावर हाउस पतेरी के साथ मिलकर मंगलसूत्र लूटने का जुर्म स्वीकार कर लिया। 
ऐसे जुड़े तार 
आरोपी की निशानदेही पर सतेन्द्र व राहुल को भी पकड़ लिया गया। तीनों से जब एक साथ पूछताछ की गई तो आरोपियों ने  दो और वारदातों का खुलासा करते हुए लूटे गए गहने धवारी सांई मंदिर के पास रहने वाले आभूषण दुकानदार अजय उर्फ अज्जू सोनी पुत्र अश्वनी सोनी 35 वर्ष को बेचने की बात कही। गैंग लीडर सतेन्द्र को साथ लेकर पुलिस टीम ने अजय की दुकान पर छापा मारकर सोने का लाकेट, चेन और तीन मनचली बरामद कर उसे भी गिरफ्तार कर लिया, गहनों की कीमत 56 हजार रुपए थी। आरोपियों से 56 सौ रुपए नगदी और लूट में इस्तेमाल की गई बाइक भी जब्त की गई। 
इन घटनाओं को दिया अंजाम 
बदमाशों ने 20 अगस्त को घर से मंदिर जा रही आशा मिश्रा पति जर्नादन मिश्रा 63 वर्ष निवासी प्रभात बिहार कालोनी के गले से सोने की चेन लूट ली थी। वहीं 4 अक्टूबर की रात को राजेन्द्र नगर गली नम्बर 2 में पूजा त्रिपाठी पति विनय कुमार त्रिपाठी 27 वर्ष निवासी लखहा हाल राजेन्द्र नगर की चेन छीनकर भाग निकले थे। दोनों ही घटनाओं में धारा 392 के तहत अपराध पंजीबद्ध किए गए थे। 
नशे के आदी हैं आरोपी,रेकी के बाद करते थे वारदात 
पुलिस अधीक्षक ने बताया कि तीनों आरोपी नशे के आदी है,मगर बेरोजगार होने के कारण लद पूरी नहीं कर पा रहे थे। ऐसे में चेन स्नेचिंग की वारदातों में लिप्त हो  गए। यह गिरोह राजेन्द्र नगर और प्रभात बिहार में ही सक्रिय था, तीनों युवक पहले रेकी करते थे और फिर अपना टारगेट चिन्हित कर घटना को अंजाम देते थे। इनमें  सिर्फ गैंग लीडर सतेन्द्र मुंबई में काम करता था,मगर लॉकडाउन के दौरान काम बंद हो जाने पर सतना वापस आ गया था। वहीं आभूषण व्यापारी के खिलाफ भी 
चोरी के गहने खरीदने पर कार्रवाई की गई है।
ये रहे शामिल 
इस कार्रवाई में सिटी कोतवाल अर्चना द्विवेदी के साथ एसआई संदीप चतुर्वेदी, केएन मिश्रा, रुपेन्द्र राजपूत, प्रधान आरक्षक रामनिवास बागरी, आरक्षक सुखेन्द्र सिंह, मुकेश तिवारी, आकाश द्विवेदी, संदीप तिवारी, हरीश मिश्रा, राहुल सिंह, अखंड प्रताप सिंह, धर्मराज यादव, सचिन सिंह, संजय कुमार, पुनीत सिंह, प्रदीप पांडेय, शंकरदयाल त्रिपाठी, बृजेन्द्र पांडेय, दिलीप सिंह, रामसेवक, साइबर सेल प्रभारी अजीत सिंह, प्रधान आरक्षक दीपेश पटेल, आरक्षक संदीप सिंह और वीपेन्द्र मिश्रा ने अहम भूमिका निभाई।

Post a Comment

0 Comments