मां से आठ साल बड़ी हैं बेटी- कोविड वेक्सिनेशन के दौरान पता चला- आधार कार्ड की बदौलत

 


आधार कार्ड बनाने समय जितनी जल्द बाजी हुई उससे स्पष्ट है कि आधार कार्ड धारकों को उतनी ज्यादा समस्या पैदा हुई ‌। एक बेटी अपनी मां कि उम्र से बडी है जी हां यह आधार कार्ड से स्पष्ट दिखाई देता है कि एक बेटी अपनी मां की उम्र से 8 साल बड़ी है । मणी भागरिया निवासी गामठवाडा जिसकि वास्तविक उम्र 55 साल से भी अधिक है जबकि आधार कार्ड में उम्र 26 साल 1995 में जन्म होना दर्शाता है । जबकि बेटी कल्पना भागरिया कि उम्र 


एसे में कोरोना वेक्सिनेशन के दौरान महीला 55 साल की उम्र के बावजूद अटक गई । बाद में अस्पताल प्रशासन ने वास्तविकता को देखा और समाधान किया ।

अब एसे कई मामलों में गलती सिस्टम और कार्ड जारी करने वाले की होती है जिसका खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ता है । फिलहाल मणी भागरिया को जन्म तिथि सुधार करवाने के लिए उचित मार्गदर्शन दिया गया है। लेकिन आखिर कब तक सिस्टम सुधरेगा? 


इधर बाजारों में लॉकडाउन की अफवाहों के बीच एक बार फिर से एक कालाबाजारी के लिए मुनाफा खोर सक्रिय हो उठे हैं बाजार में ग्राहकों ने बताया कि लॉकडाउन की अटकलों के बीच व्यापारी बीड़ी सिगरेट तंबाकू और गुटखा पर ज्यादा भाव वसुली कर रहे हैं। एसे में प्रशासन को आवश्यक कदम उठाने की जरूरत है।




Post a Comment

0 Comments