आ चुकी है कोरोना की तीसरी लहर, WHO ने जारी की ये चेतावनी

 


आ चुकी है कोरोना की तीसरी लहर, WHO ने जारी की ये चेतावनी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के प्रमुख टेड्रोस एडनॉम घेब्येयियस ने चेतावनी दी कि corona viruses रोग (कोविड-19) महामारी अब तीसरी लहर के "प्रारंभिक चरण" में है। उन्होंने कोरोना वायरस के डेल्टा वेरिएंट के मामलों में वैश्विक उछाल पर एक नई चेतावनी जारी करते हुए कहा, "दुर्भाग्य से हम अब तीसरी लहर के शुरुआती चरण में हैं।"
संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख घेब्रेयसस के हवाले से कहा, "डेल्टा वेरिएंट अब 111 से अधिक देशों में है और हम उम्मीद करते हैं कि यह जल्द ही दुनिया भर में फैलने वाला प्रमुख कोविड-19 वेरिएंट होगा, अगर यह पहले से ही वहां मौजूद नहीं है।" उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस का विकास जारी है और इसके परिणामस्वरूप अधिक संक्रमणीय रूप सामने आ रहे हैं।

अंतरराष्ट्रीय सार्वजनिक स्वास्थ्य एजेंसी के महानिदेशक टेड्रोस एडनॉम ने बताया कि यूरोप और उत्तरी अमेरिका में टीकाकरण दर बढ़ने के कारण कुछ समय के लिए कोविड-19 मामले और मौतें घट रही थीं, लेकिन वैश्विक प्रवृत्ति अब उलट गई है और मामले एक बार फिर बढ़ रहे हैं। पिछले सप्ताह लगातार चौथा ऐसा सप्ताह है, जिसमें डब्ल्यूएचओ के छह क्षेत्रों में से एक को छोड़कर सभी में मामले बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा, ''10 हफ्ते की लगातार गिरावट के बाद मौतें भी फिर से बढ़ रही हैं।''
डब्ल्यूएचओ ने कहा कि हाल ही में कोरोनवायरस के डेल्टा संस्करण का प्रसार "सामाजिक गतिशीलता में वृद्धि" द्वारा किया जा रहा है। सार्वजनिक स्वास्थ्य और सामाजिक उपायों के उपयोग को नहीं अपनाना इसके फैलाव का सबसे बड़ा कारण है।
वैश्विक स्वास्थ्य निकाय ने कहा, ''कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण महत्वपूर्ण है, लेकिन यह अकेले महामारी को नहीं रोकेगा।'' यह दर्शाते हुए कि देशों को सामूहिक समारोहों के लिए व्यापक जोखिम प्रबंधन दृष्टिकोण अपनाने की आवश्यकता है, जिसके लिए एक मार्गदर्शन हाल ही में डब्ल्यूएचओ द्वारा जारी किया गया था।

घेब्रेयस ने कहा, ''इसके अलावा, कोविद-19 टीकों के वैश्विक वितरण में "चौंकाने वाली असमानता" भी है। इस असमानता के परिणामस्वरूप अलग-अलग देशों ने महामारी से लड़ने के लिए अलग-अलग दृष्टिकोण अपनाए हैं, जिसके परिणामस्वरूप 'टू-ट्रैक महामारी' प्रति से अधिक है।'' उन्होंने कहा, ''एक ट्रैक टीकों की सबसे बड़ी पहुंच वाले देशों के लिए है, जो प्रतिबंध हटा रहे हैं और अपने समाजों को फिर से खोल रहे हैं और दूसरा ट्रैक उन लोगों के लिए है, जिनके पास टीके नहीं हैं और जिन्हें "वायरस की दया पर" छोड़ दिया गया है।'

डब्ल्यूएचओ ने कहा, ''दुनिया भर में बड़े पैमाने पर कोविड-19 टीकाकरण को आगे बढ़ाने की जरूरत है।'' वैश्विक स्वास्थ्य एजेंसी ने कहा कि प्रत्येक राष्ट्र को सितंबर तक अपनी पूरी आबादी का कम से कम 10%, 2021 के अंत तक कम से कम 40% और 2022 के मध्य तक कम से कम 70% का टीकाकरण करना होगा ।

इस बीच, भारत ने पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के 41,806 ताजा मामले और 581 अधिक मौतें दर्ज कीं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के गुरुवार को अपडेट के अनुसार, केसलोड और मरने वालों की संख्या क्रमशः 30,987,880 और 411,989 हो गई।



Post a Comment

0 Comments