क्षत्रिय धर्म के संस्कारों के पुनरुत्थान की तरफ मांडव गांव की कन्याओं का प्रस्थान

 

क्षत्रिय धर्म के संस्कारों के पुनरुत्थान की तरफ मांडव गांव की कन्याओं का प्रस्थान

चार दिवसीय क्षत्रिय युवक संघ के आसपुर में होने वाले शिविर में भाग लेने के लिए अध्यक्ष तकत सिंह राठौङ एवं संरक्षक ईश्वर सिंह चौहान एवं मयूर राज सिंह माण्डव ने गाड़ी को हरी झंडी दिखाकर माण्डव माँ अम्बे का आशीर्वाद लेके रवाना किया ।

मयुराज सिंह मांडव ने कहा कि क्षत्रियों के कालजयी इतिहास में हम जो बीच के समय में, वर्तमान समय में पाश्चात्य संस्कृति के अंधानुकरण से जो हम अपने सनातनी संस्कारों को, क्षत्रिय संस्कारों को भूलने की भूल कर बैठे हैं उन्हें वापस हमारी नई पीढ़ियों में बीजारोपण के उद्देश्य से, संस्कारों के सिंचन हेतु किए जा रहे प्रयासों में समय-समय पर क्षत्रिय युवक संघ जिनकी स्थापना हमारे परम पूज्य तन सिंह द्वारा की गई है पूरे भारतवर्ष में शिविरों का आयोजन होता है। इसी कड़ी में आज आसपुर में बालिका वर्ग का भी 30 दिसंबर से 2 जनवरी तक आयोजित शिविर में भाग लेने के लिए मांडव से भी एक दल रवाना हुआ है आप सभी को हार्दिक बधाई ।

 आशा करते हैं कि आप सब हमारे राजपूत क्षत्रिय धर्म का संस्कारों का  जो कि हमारे खून में रचे बसे हुए हैं, का जो भूलने का पाप करने जा रहे थे उन्हें पुनः विस्मरण करवा कर अपने जीवन को क्षात्र धर्म पर ले जाते हुए, सभी जातियों, कौमो में पुनः क्षत्रियों की तरफ विश्वास लौटाने की प्रेरणा लेकर, भगवा धर्म को समझ कर पुनः मांडव पधारेंगे इन्हीं आशाओं के साथ आप सबको बहुत-बहुत बधाई ।



Post a Comment

0 Comments