आपने कभी देखा है आम के पेड़ पर बना हुआ सपनों का घर उदयपुर लेकसिटी में हकीकत में बना दिया आम के पेड़ पर आशियाना

 


उदयपुर/ हर इंसान का सपना होता है कि उसका एक प्यारा सा आशियाना सपनो का घर हो । अगर वो सबसे हटकर यूनिक हो तो कहना ही क्या । कुछ इसी सोच के साथ उदयपुर के इंजीनियर केपी सिंह ने एक ऐसे आशियाना की कल्पना की जो पेड़ पर हो, लेकिन सब सुख सुविधाओं से युक्त हो । फोटो में देखें सिंह के सपनों का आशियाना।



इंजीनियर केपी सिंह का यह प्यारा सा आशियाना लेकसिटी उदयपुर के चित्रकूट नगर में स्थित है । सिंह ने अपने ड्रीम हाउस का सपना संजोया था । आज से करीबन 20 साल पहले उन्होंने उसे आम के पेड़ पर मूर्त रूप में उतारा ।



अजब इंजीनियर के सपनों का यह गजब घर आम लोगो के लिये कौतुहल का विषय है । आम के पेड़ पर बना यह घर चार मंजिला है । इस घर में वो तमाम सुख सुविधाएं है जो एक ड्रीम हाउस में होनी चाहिये । पूरी तरह से प्रकृति की गोद (पेड़) पर बने इस घर में रहने का अपना एक अलग ही आनंद है । यह ट्री-हाउस बरबस ही हर किसी का ध्यान अपनी और खींच लेता है ।

सिंह की इच्छा थी उनका घर में पेड़ की छांव भी हो और शुद्ध ताजी हवा का झोंका भी आता रहे । लंबे समय तक इसकी पूरी कल्पना कर सिंह ने 2000 में अपने सपनों के महल को आम के पेड़ पर तैयार किया । खास बात यह है कि इसके लिये उन्होंने पेड़ की एक भी टहनी को काटा नहीं और चार मंजिला आशियाना बना डाला । यह पर्यावरण संरक्षण की अनूठी मिसाल है ।

यह ट्री-हाउस जमीन से करीब 9 फीट की ऊंचाई से शुरू होता है । इसकी पूरी हाइट लगभग 39 फीट है । इस घर में चढ़ने के लिये जो सीढ़ियां बनाई गई हैं वो रिमोट से संचालित होती हैं । इस ट्री हाउस की सबसे खास बात यह है कि इसमें कहीं भी लकड़ी का इस्तेमाल नहीं किया गया है । इसे स्ट्रील स्ट्रक्चर, सेल्यूलर शीट और फाइबर का उपयोग करते हुये बनाया गया है ।



इस ट्री हाउस की डिजाइन को पेड़ की टहनियों के अनुसार ही आकार दिया गया है । घर में डायनिंग के साथ ड्राईंग रूम में आम के पेड़ की टहनियों का सोफा बनाया गया है । वहीं इस अजूबे घर में बाथरूम, बेडरूम और किचन समेत सभी सुख सुविधाएं जुटाई गई है । सिंह के इस ट्री हाउस को देखकर हर किसी का इसमें रहने का मन करता है । शायद आपका भी ।


Letest news update for Udaipur zone-- application here--- https://play.google.com/store/apps/details?id=com.wagadlive

Post a Comment

0 Comments