परिवार में पांच पॉजिटिव, फिर भी दुकान खोल कर बैठे, मुकदमा दर्ज करने के आदेश

 



डूंगरपुर / जिले में कोविड संक्रमण तेजी से फैल रहा है। इसके बावजूद आमजन की लापरवाही में कोई कमी नहीं आ रही। शहर के हाउसिंग बोर्ड क्षेत्र में एक परिवार में पांच-पांच संक्रमित होने के बावजूद परिवार का छठा सदस्य दुकान खोल कर बैठा था। जिला कलक्टर सुरेश कुमार ओला ने बुधवार शाम को कंटेंटमेंट जोन का दौरा किया, उस समय यह हकीकत सामने आई। इस पर कलक्टर ने तत्काल दुकान सीज कराकर संबंधित के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए। नगरपरिषद आयुक्त नरपत सिंह राजपुरोहित ने शहीद पार्क के सामने स्थित दुकान सील कराई।
कलक्टर ने जय हिंद नगर, पोस्ट ऑफिस, न्यू कॉलोनी, आदर्श नगर तथा हाउसिंग बोर्ड का सघन दौरान किया और होम आईसोलेट कोरोना संक्रमितों की जानकारी ली। इस दौरान कलक्टर ओला ने कहा कि होम आईसोलेशन का उल्लंघन नहीं करें। यदि होम आईसोलेट कोई भी कोरोना संक्रमित बाहर घुमता पाया गया तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करते हुए मुकदमा दर्ज किया जाएगा। कलक्टर ने कोरोना मरीजों से आत्मीय संवाद करते हुए स्वास्थ्य की जानकारी ली और किसी प्रकार की चिकित्सा सुविधा के लिए टीम से संपर्क करने के निर्देश दिए। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि होम आईसोलेशन में दस दिन रहना अनिवार्य है, जागरूक शहरवासी का उदाहरण प्रस्तुत करें और होम आईसोलेट रहकर संक्रमण की रोकथाम में सहयोग करें। इस दौरान पुलिस अधीक्षक सुधीर जोशी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी सहित पार्षद भरत जोशी, नितिन चौबीसा, पंकज जैन, भावना राव मौजूद रहे।
सामूहिक ट्यूशन पर होगी कार्रवाई
हाउसिंग बोर्ड में कतिपय शिक्षकों की ओर से २० से ३० विद्यार्थियों को एक साथ ट्यूशन दिए जाने की शिकायत मिली। इस पर कलक्टर ने संबंधितों को पाबंद करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ५ से अधिक विद्यार्थियों को ट्यूशन लेते पाए जाने पर संबंधित शिक्षकों और अभिभावकों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।


चिकित्सा आपके द्वार: 5045 लोगो की स्क्रीनिंग


डूंगरपुर/ शहर में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए जिला प्रशासन की ओर से शुरू किए चिकित्सा आपके द्वार अभियान के दूसरे दिन चिकित्सा टीमों ने शहर के 1009 मकानों के 5045 लोगों की स्क्रीनिंग कर बीमारों को दवाएं उपलब्ध कराई। टीम ने लोगों को स्वास्थ्य सलाह देते हुए संक्रमित व्यक्ति को होम आइसोलेशन की पालना करने तथा दवाएं नियमित रूप से लेने को कहा।
यह नहीं करें ।
कलक्टर ओला ने आमजन से अपील करते हुए कहा कि कोविड को लेकर कई लोग अब भी गंभीर स्तर की लापरवाही बरत रहे हैं। पॉजिटिव मरीज कम से कम १० दिन तक आइसोलेशन की पालना करें। फॉलोअप जांच १० दिन के बाद ही कराएं। इससे पहले बेवजह कोरोना जांच के लिए लाइन में लग कर अन्य लोगों को खतरे में नहीं डालें। यदि परिवार में कोई संक्रमित है तो परिवारजन भी क्वारंटीन की पालना करें।



Post a Comment

0 Comments