कोरोना महामारी कि दुसरी लहर भारत पर क्यों पड़ रही है भारी

 




भारत में इस वक्त कोरोना महामारी की वजह से जो हालत हुई है उसे लेकर आज हमने इस विषय पर मंथन किया है जिसे आप सभी देखें और अपने विचार व्यक्त करें कि आखिर कोरोना महामारी की यह दूसरी लहर भारत में ही इतनी रफ्तार क्यों पकड़ गई?

क्या भारत में अनुशासित लोग नहीं रहते हैं? क्या हमारे पड़ोसी देश इतने अनुशासित हो गए हैं? क्या चाइना जिसने इस कोरोनावायरस का निर्माण किया उसके पास ऐसी कोई वैक्सीन या दवाई आ गई जिसकी वजह से चाइना में बिल्कुल ही शांति है? जिसने इस महामारी को जन्म दिया वहां पर कोरोना का ड्राफ्ट इतना कम क्यों? इन सारी बातों पर विचार विमर्श करने की जरूरत है ।

लोगों में एक मानसिकता पैदा कर दी गई है कि यह दूसरी लहर बहुत ही खतरनाक है सावधानी बरतने की जरूरत थी जहां पर खौफ पैदा कर दिया गया और उसकी वजह से आज हजारों लाखों की संख्या में लोग ऑक्सीजन लेवल घटा बैठे । जब पहली लहर आई उस समय भारत में मृत्यु दर बहुत ही कम थी लोगों को लक्षण तक नहीं दिखाई दिए थे और दूसरी लहर में अचानक ऑक्सीजन लेवल कम कैसे हुआ? 

अब हम बात करते हैं पड़ोसी देश की पाकिस्तान जी हां पाकिस्तान में 9 मई को एक भी कोरोना पॉजिटिव मरीज नहीं दिखाई दिया आखिर इसके पीछे क्या कारण है?


क्या पाकिस्तान में लोग ऑक्सीजन के लिए नहीं तड़प रहे हैं? क्या पाकिस्तान में कोरोना महामारी अपना असर नहीं दिखा रही है क्या दूसरी लहर पाकिस्तान में नहीं दिखाई दी?


अब हम बात करते हैं अफगानिस्तान की जहां पर 9 मई को मात्र 87 केस कोरोना पॉजिटिव पाए गए । आखिर में अफगानिस्तान के पास क्या ऐसी कोई वैक्सीन या दवाई आ गई है जिसकी वजह से कोरोना काबू में आ गया? या फिर वहां के लोग अपने आप को अनुशासित कर अपने घरों में बैठे हैं?

अब हम बात करते हैं चाइना की जिसने इस कोरोना महामारी को जन्म दिया है।


पूरे विश्व को कोरोना महामारी की आग में धकेल कर चाइना ने कोरोना पर काबू पा गया है जिसका ग्राफ आप देख सकते हैं शुरुआत में अचानक चाइना में कोरोना पॉजिटिव मरीज की रफ्तार पकड़ी थी और तुरंत ही इस पर काबू पा लिया आखिर इसका मतलब क्या? क्या इस वक्त चाइना में कोरोना की दूसरी लहर असर नहीं कर रही है या फिर चाइना के पास ऐसी कोई वेक्सिन या दवाई आ गई है या उसने बना ली है जिसकी वजह से इस पर उसने काबू पा लिया है ।


अब हम बात करते हैं सऊदी अरबिया की


आखिर में सऊदी अरबिया में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान कोरोना पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ इतना नीचे कैसे चला गया?

अब हम बात करते हैं इंग्लैंड की जहां की स्थिति कोरोना की पहली लहर में काफी खराब थी तो अचानक इस वक्त कोरोना काबू में कैसे?

कोरोना के लक्षणों में बुखार आना सांस फूलना हाथ पैर दर्द सर्दी जुकााम खांसी आदि लक्षण बताए गए थे लेकिन अचानक ऑक्सीजन लेवल घटना एक नया लक्षण अपने आप में सोचनेेेे पर मजबूर करता है कि आखिर सर्दी जुकाम खांसी कुछ नहीं होने के बावजूद ऑक्सीजन लेवल अचानक कैसे घट रहा है ।

कहीं ना कहीं भारत के लोगों में इतना डर बैठ गया है जिसकी वजह से लोग घबरा रहे हैं और घबराहट की वजह से सांस लेने में तकलीफ हो रही है और ऑक्सीजन लेवल कम हो रहा है और ऑक्सीजन लेवल कम होने के बाद लोगों की मौत होना स्वभाविक हो रहा है।

कोरोना महामारी की इस दूसरी लार को देखते हुए लोगों को अपने घरों में ही रहना चाहिए बिना वजह बाहर नहीं निकलना चाहिए और आत्मविश्वास और मनोबल को बनाकर रखना चाहिए हौसला बढ़ाने का काम करना चाहिए इस वक्त किसी भी तरह की क्रांति में नहीं रह कर अपने आप को घरों में कैद कर लीजिए क्योंकि किसी भी तरह की भ्रांति और असमंजस की स्थिति हमें गंभीर नुकसान पहुंचा सकती है इसलिए अपने आप को आत्मविश्वास और मनोबल के साथ हॉम आइसोलेटेड कर लिजिए । कुछ ही दिनों में स्थितियां सामान्य हो सकती हैं अगर आप अपने आप को अनुशासित कर लेंगे तो ।

ज्यादा कोरोना के विषय में नहीं सोचे बस प्रशासन के निर्देश का सख्ती से पालन कर ले आप और आपके परिवार को कुछ नहीं होगा।

Note- अपनी बारी आने पर कोविड वेक्सिन जरुर लगवाए

यह सभी ग्राफ हमने गूगल से जनहित में प्रसारित किया है ।




Post a Comment

0 Comments