जिला कलेक्टर सुरेश कुमार ओला ने हरी झंडी दिखाकर बायोमेडिकल वेस्ट ट्रीटमेंट फैसिलिटी का किया शुभारंभ

 


डूंगरपुर बांसवाड़ा तथा प्रतापगढ़ जिलों के समस्त शासकीय अशासकीय चिकित्सा संस्थानों से निकलने वाले जीव चिकित्सा अपशिष्ट के निदान के लिए डूंगरपुर शहर में भंडारया घाटा पर नगर परिषद डूंगरपुर द्वारा उपलब्ध करवाई गई भूमि पर कॉमन बायोमेडिकल वेस्ट ट्रीटमेंट फैसिलिटी का शुभारंभ किया गया । यह फैसिलिटी एक प्रोजेक्ट कंपनी द्वारा लगाई गई है।कार्यक्रम का शुभारंभ डूंगरपुर जिला कलेक्टर सुरेश कुमार ओला ने प्लांट के कचरा परिवहन के लिए उपयोग में लाने वाली गाड़ियों को प्रातः 10:30 बजे जिला कलेक्टर प्रांगण से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।


ज्ञात रहे यह कॉमन बायोमेडिकल वेस्ट ट्रीटमेंट फैसिलिटी निदेशालय नगरीय निकाय जयपुर तथा राजस्थान प्रदूषण नियंत्रण मंडल द्वारा प्राधिकार प्राप्त मात्र ऐसी संस्था है जो कि डूंगरपुर बांसवाड़ा तथा प्रतापगढ़ जिलों के समस्त शासकीय शासकीय चिकित्सा संस्थानों से निकलने वाले जीव चिकित्सा अपशिष्ट का राज्य शासन द्वारा निर्धारित दरों पर जीव चिकित्सा अपशिष्ट नियम 2016 के अनुसार निपटान करेगी।डूंगरपुर जिला कलेक्टर द्वारा जिले में संचालित समस्त शासकीय शासकीय चिकित्सा संस्थानों को शीघ्र ही कॉमन बायोमडिकल वेस्ट ट्रीटमेंट फैसिलिटी की सदस्यता लेकर उनके चिकित्सा संस्थानों से निकलने वाले जीव चिकित्सा अपशिष्ट के निपटान करने के लिए आदेशित किया जा चुका है।

जिला कलेक्ट्रेट सुरेश कुमार ओला क्या कहते हैं ☝️

ईटेक प्रोजेक्ट के मैनेजर कामिल मंसूरी ने बताया कि प्रशासन की सजगता और समय पर समस्त कागजी कार्रवाई पूर्ण हो जाने के कारण यह प्लांट आज चालू होने की स्थिति में आ गया है । कोरोना की पहली और दूसरी लहर में हमने देखा कि कोरोना के दौरान काफी मात्रा में संक्रमित कचरा उत्पन्न होता है कोरोना की तीसरी लहर को दृष्टिगत रखते हुए कोविड के दौरान उत्पन्न कचरा जैसे सर्जिकल मास्क एप्रिन पीपीई कीट कॉविड के मरीजों से उत्पन्न कचड़े को निपटाने में यह प्लांट मील का पत्थर साबित होगा । तथा डूंगरपुर बांसवाड़ा तथा प्रतापगढ़ जिलों के लिए चिकित्सा संस्थानों से निकलने वाले जैव चिकित्सा अपशिष्ट से निजात दिलाकर उपरोक्त तीनों जिलों को इस दिशा में आत्मनिर्भर बनाने में सहायक सिद्ध होगा।

इस कार्यक्रम में डॉ राजेश शर्मा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डूंगरपुर, कांतिलाल प्रमुख चिकित्सा अधिकारी जिला चिकित्सालय डूंगरपुर, नगर परिषद सभापति अमृतलाल कलासुआ एवं ई टेक प्रोजेक्ट के प्रतिनिधि कामिल मंसूरी एवं वासिफ कादरी उपस्थित थे। 


News next 



सिंचाई योजनाओं का लाभ हर ग्रामीणों तक पहुंचा रही गहलोत सरकार-भगोरा

पूर्व सांसद ने की रतनपुरा में 48 लाख की सिंचाई योजना का शुभारम्भ

डूंगरपुर। ग्रामीण क्षेत्रो में किसानों को पर्याप्त पानी मिले जिससे समय पर बेहतरीन व उन्नत खेती हो इसके लिए राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा सिंचाई क्षेत्र में अनेक योजनाओं का बेहतरीन क्रियान्वयन किया जा रहा है जिससे ग्रामीण क्षेत्रो में कृषको को पानी की समस्याओं का सामना नही करना पड़ेगा यह उदगार कांग्रेस के राष्ट्रीय नेता व पूर्व सांसद ताराचंद भगोरा ने  आज 14 जुलाई को चौरासी विधानसभा के रतनपुरा ग्राम पंचायत में 48 लाख की लागत से निर्मित सिंचाई योजना के शुभारंभ के अवसर पर अपने सम्बोधन में कहे।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पूर्व सांसद भगोरा, अध्यक्षता पूर्व विधायक शंकरलाल अहारी तथा विशिष्ठ अतिथि ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष प्रकाशचन्द्र पाटीदार, मनोहरसिंह (चीख़ली), मुश्ताक अहमद पठान, कारीलाल मीणा, सीमलवाड़ा पँचायत समिति सदस्य महेंद्र भगोरा थे।
इस अवसर पर उन्होंने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार ने कांग्रेस शासन में सरकारी उपक्रमों का निजीकरण कर देश की संपत्तियों को उधोगपतियों के हाथ बेची जा रही है, पेट्रोल-डीजल व घरेलू गैस के दामो में वृद्धि कर देश की जनता को महंगाई की आग में झोंक दिया है।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस हर हालातो में जनता के साथ है केंद्र की मोदी सरकार की जन विरोधी नीतियों का मुंह-तोड़ जवाब दिया जाएगा।
कार्यक्रम में पूर्व विधायक अहारी ने कहा कि कांग्रेस ने आज हमेशा जनता के बीच रहकर काम किया है उधोगपतियों की गुलामी नही की जनता के हर दुःख-दर्द में कांग्रेस हमेशा खड़ी है व रहेगी।
इस अवसर पर रतनपुरा सरपँच श्रीमती सनद देवी भगोरा, पूर्व सरपंच प्रेमचन्द भगोरा, चौरासी कांग्रेस युवा नेता रूपचंद भगोरा, रास्तापाल सरपँच संजय कलासुआ, प्रधानाचार्य धनपाल भोई, धर्मेंद्र भगोरा, विभीषण भगोरा,  मनोहर बंजारा, शंकरभाई भगोरा, रतनलाल डामोर पंच, वार्ड पंच उपस्थित रहे।

Post a Comment

0 Comments