राज्य सरकार व फसल बीमा कम्पनी द्वारा फसल बीमा के नाम पर किसानो के साथ धोखाधडी़।

 

किसानों से करोड़ों की प्रीमियम वसूलने के बावजूद  राजस्थान में खराबे पे 50 से 100 रुपये का मुआवजा मिल रहा है ।


राज्य सरकार व फसल बीमा कम्पनी द्वारा फसल बीमा के नाम पर किसानो के साथ धोखाधडी़। 

 

आज भारतीय किसान संघ की जिला कोर कमेटी की बैठक संघ कार्यालय, सागवाड़ा में आहुत की गयी। बैठक की अध्यक्षता प्रांत प्रमुख देवेंग भाई जेठाना विशिष्ट अतिथि प्रांत मंत्री दिनेश अम्बाडा,सम्भाग जैविक प्रमुख नाथजी भाई बडलिया,गलियाकोट तहसील अध्यक्ष गोविंदराम घाटा का गांव,सागवाडा़ तहसील अध्यक्ष रतनजी नया गांव,जिला कोषाध्यक्ष लालशंकर बिजावाडा़,लल्लुराम बिजौला,नरेश दिवडा़ छोटा,डुंगरजी उपस्थिति में बैठक की गयी जिसमें  खरीफ फसल खराबा 2021में पुरे जिले में सभी सहकारीता व राष्ट्रीय बैंको द्वारा केसीसी के माध्यम से प्रधानमंत्री फसल बीमा फ्युचर जनरल इंशोरेंस बीमा कम्पनी द्वारा बीमा किया गया था जिसमें सम्पुर्ण डुंगरपुर जिले से किसानों व राज्य सरकार व केंद्र सरकार के द्वारा 15 करोड़ रुपयें बीमा प्रीमीयम जमा किया गया था।

जिसमें खरीफ फसल खराबा की राजस्व विभाग व कृषि विभाग द्वारा आधिकारीत सर्वे सागवाडा़ गलियाकोट साबला तीन तहसीलों में 55% से 60% खराबा की रिपोर्ट दी गयी थी।


जिसमें कृषक द्वारा फसल बीमा का  1200 रुपये प्रीमीयम जमा कराने के बाद भी कृषको को बीमा क्लेम राशि 50 से 150 रुपया तक भी नही मिला।

जैसे कोपरेटीव शाखा बैंक में कृषको द्वारा 15लाख38 रूपयें व राज्य व केंद्र  सरकार द्वारा 46-46 लाख रुपये जमा हुए जो की कुल राशि 1 करोड़ 7 लाख रुपयें फ्युचर जनरल इंश्योरेंस कम्पनी को जमा हुए जिसमें तहसील की फसल खराबा सर्वे में 60% तक दर्शाया गया हैं जिसके उपरांत भी बीमा कम्पनी द्वारा बीमा क्लेम राशि मात्र 27 पंचायतों को सिर्फ  9700 रुपये ही जारी की गयी इसी तरह तीनो तहसीलों की सभी बैंक शाखाओं में स्थिति बनी हुई हैं।

जिसके तहत किसानो में भारी आक्रोश हैं।

भारतीय किसान संघ राज्य सरकार व कृषि विभाग से 60% फसल खराबा के अनुपात में बीमा क्लेम की राशि बीमा कम्पनी से किसानो को दिलवाने की मांग करता हैं अन्यथा आने समय में पुरे जिले के किसानो द्वारा आंदोलन किया जायेगा।



Post a Comment

0 Comments